लड्डन जाफरी: अल्लामा जमीर अख्तर नकवी, एक धार्मिक विद्वान की कहानी | लड्डन जाफरी इंटरनेट पर वायरल हुए मीम और बयान

अल्लामा जमीर अख्तर नकवी, जिन्हें लड्डन जाफरी के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रसिद्ध धार्मिक विद्वान थे जिनके मीम्स और बयान इंटरनेट पर वायरल हो गए। उनकी जीवनी, कोरोनावायरस पर रिसर्च, और उनके विचारों को इस लेख में जानें।

Islamic Islamic
फखरपुर, उत्तर प्रदेश, 
 0  46
लड्डन जाफरी: अल्लामा जमीर अख्तर नकवी, एक धार्मिक विद्वान की कहानी | लड्डन जाफरी इंटरनेट पर वायरल हुए मीम और बयान
लड्डन जाफरी: अल्लामा जमीर अख्तर नकवी, एक धार्मिक विद्वान की कहानी | लड्डन जाफरी इंटरनेट पर वायरल हुए मीम और बयान

प्रसिद्ध धार्मिक विद्वान अल्लामा जमीर अख्तर नकवी, इस महान हस्ती को कौन नहीं जानता ये है, इनके मीम्स आज भी रोते हुए लोगो को हंसा के देते हैं, भारत के लखनऊ में पैदा हुवे अल्लामा जमीर अख्तर नकवी जो इंटरनेट पर किसी अमरोहा के लड्डन जाफरी का किस्सा बताते हुए लड्डन जाफरी के नाम से मशहूर हुवे, वक्त ने इनके साथ वफा न की जब ये इंटरनेट पर मशहूर हुवे तब तक ये दुनिया ए फानी से रुकसत हो गई।

कौन है लड्डन जाफरी उर्फ अल्लामा जमीर अख्तर नकवी

अल्लामा जमीर अख्तर नकवी भारत के अमरोहा में पैदा हुवे बटवारा होने के बाद पाकिस्तान चले गई, नोबेल कोरोनावायरस के दौरान मरहूम नकवी एक पाकिस्तानी टीवी चैनल पर इंटरव्यू दे रहे थे चर्चा कोरोनावायरस को लेकर चल रही थी एंकर ने पूछा क्या आप के पास कोरोनावायरस कोई इलाज है? मरहूम अख्तर नकवी गुस्से में आकर जवाब देते हैं "नही मैं नही बताऊंगा मुझे मजाक नही उड़वाना अपना" मरहूम नकवी की इतनी सी बात इंटरनेट पर आग की तरह फैल गई, इस पर हजारों मीम बनाने लगे।

लड्डन जाफरी उर्फ अल्लामा जमीर अख्तर नकवी की कोरोनावायरस पर रिसर्च

मरहूम नकवी ने कहा था की उन्होंने कोरोनावायरस का इलाज ढूंढ लिया है इसी लिए पाकिस्तान के एक टीवी चैनल पर बुलाया गया लेकिन अफसोस नकवी ने इलाज नहीं बताया, असल में मरहूम नकवी इस लिए नाराज थे और कह रहे थे की "मैं नही बताऊंगा मुझे मजाक नही बनवाना अपना" क्योंकि इंटरनेट पर लोगो ने इनके हर स्टाइल और स्पीच पर मीम बनाना सुरु कर दिया इसे लिए इन्होंने गुस्से में कहा की मैं नही बताऊंगा।

लड्डन जाफरी उर्फ अल्लामा जमीर अख्तर नकवी का बयान

अल्लामा जमीर अख्तर नकवी का एक और बयान बहुत चर्चित रहा है, जब लोग इनकी मीम बनाने लगे फेसबुक पर तो इन्होंने फेसबुक के यूजर्स को अबु जहेल की नस्ल से बताया था, मरहूम नकवी फेसबुक को अक्सर फसबबुक कहते थे और फेसबुक से बहुत गुस्सा होते थे क्योंकि वे फेसबुक की मीमस से बहुत नाराज थे।

लड्डन जाफरी उर्फ अल्लामा जमीर अख्तर नकवी शख्सियत

अल्लामा जमीर अख्तर नकवी की शख्सियत बात करे तो वे बहुत ही दिल के सुंदर इंसान थे शिया अकीदे के थे मतलब शिया थे उनके बयान सिर्फ शिया पर होते थे लेकिन काबिल बहुत इस्लाम का बहुत उन्हे ज्ञान था वो कुरान हदीस की बातें ज्यादा करते उनके बयान सुनने के बाद कभी ऐसा नहीं लगता था की वे शिया है।

मरहूम नकवी को शिया सुनने नौवजन लड़के लड़कियां हर फिरके के लोग सुनते थे क्योंकि उनके बयान अलग हट के होते थे मजाकिया टाइप के, बस यही वजह थी की वो इंटरनेट पर अचानक से चर्चा में आ गई।

लड्डन जाफरी उर्फ अल्लामा जमीर अख्तर नकवी की जन्म और मौत

नकवी का जन्म 1944 में भारतीय शहर लखनऊ में हुआ था, जहां उन्होंने स्नातक तक शिक्षा प्राप्त की, बाद में 1967 में कराची चले गए।

उन्हें विज्ञान, दर्शन, साहित्य, संस्कृति, पत्रकारिता और इस्लामी इतिहास का ज्ञान था। वे अनीस अकादमी के प्रमुख होने के अलावा अल कलाम पत्रिका के संपादक भी रहे।

उन्होंने उर्दू ग़ज़लों और कर्बला की घटनाओं सहित विभिन्न विषयों पर 28 पुस्तकें भी लिखीं।

उनके परिवार के अनुसार मृत्यु। 13 सितंबर 2020 को 76 वर्ष की आयु में लंबी बीमारी के बाद हृदयाघात के कारण कराची के आगा खान विश्वविद्यालय अस्पताल में उनका निधन हो गया। अंतिम संस्कार की नमाज इमाम बारगाह शुहदा-ए-कर्बला, एंचोली में आयोजित की गई और उन्हें कराची के वादी-ए-हुसैन कब्रिस्तान में दफनाया गया।

ये थी कहानी लड्डन जाफरी उर्फ अल्लामा जमीर अख्तर नकवी, उनका असली नाम "अल्लामा जमीर अख्तर नकवी" था वो अमरोहा के किसी लड्डन जाफरी का किस्सा बता रहे थे उसी नाम से इंटरनेट ने इन्हे मशहूर कर दिया।


Islamic Subscriber

This user has systemically earned a pro badge on Fakharpur.com, indicating their consistent dedication to publishing content regularly. The pro badge signifies their commitment and expertise in creating valuable content for the Fakharpur community.

Islamic Bringing you timeless wisdom and teachings from the Quran and Hadith. Explore the depths of Islamic knowledge, spirituality, and guidance. Stay connected with me to receive regular updates on Islamic teachings, moral values, and Sunnah practices. Let's embark on a journey towards enlightenment and understanding. #IslamicTeachings #Quran #Hadith #Spirituality